• Wed. Feb 21st, 2024

rajkotupdates.news:lvm3 m2/oneweb india-1

ByAbdullah khan

May 6, 2023
एलवीएम3 एम2/वनवेब इंडिया-1: भारत में उपग्रह प्रौद्योगिकी में क्रांतिकारी बदलाव
उपग्रह प्रौद्योगिकी के आगमन ने हमारे संवाद करने, नेविगेट करने और अपने आसपास की दुनिया के बारे में जानकारी एकत्र करने के तरीके में क्रांति ला दी है।
उपग्रह हमारे दैनिक जीवन का एक अभिन्न अंग बन गए हैं, वैश्विक संचार, रिमोट सेंसिंग, मौसम की भविष्यवाणी और बहुत कुछ की सुविधा प्रदान करते हैं। भारत में,
उपग्रह प्रौद्योगिकी ने दूरस्थ और ग्रामीण क्षेत्रों को देश के बाकी हिस्सों से जोड़ने, शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और अन्य आवश्यक सेवाओं तक पहुंच को सक्षम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
 भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) और वनवेब के बीच एक संयुक्त उद्यम एलवीएम3 एम2/वनवेब इंडिया-1 का लॉन्च, भारत में उपग्रह प्रौद्योगिकी को अगले स्तर तक ले जाने का वादा करता है।
एलवीएम3 एम2/वनवेब इंडिया-1 एक लो अर्थ ऑर्बिट (एलईओ) उपग्रह समूह है जिसमें 648 उपग्रह शामिल हैं जो पूरे भारत और दुनिया के अन्य हिस्सों में हाई-स्पीड इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रदान करेगा।
फरवरी 2019 में लॉन्च किए गए 36 उपग्रहों के पहले बैच के साथ तारामंडल को चरणों में लॉन्च किया जा रहा है। शेष उपग्रहों को आने वाले वर्षों में लॉन्च किए जाने की उम्मीद है, जिसमें 2022 तक पूरा तारामंडल चालू हो जाएगा।
एलवीएम3 एम2/वनवेब इंडिया-1 समूह को भारत भर के उपयोगकर्ताओं को कम विलंबता, उच्च गति की इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिसमें दूरस्थ और ग्रामीण क्षेत्र शामिल हैं जो वर्तमान में पारंपरिक ब्रॉडबैंड बुनियादी ढांचे से कम हैं।
 तारामंडल Ka-बैंड में काम करेगा, एक फ्रीक्वेंसी बैंड जो हाई-स्पीड डेटा ट्रांसमिशन के लिए अच्छी तरह से अनुकूल है। उपग्रह उन्नत एंटेना और अन्य तकनीकों से लैस होंगे जो उन्हें जमीन पर उपयोगकर्ताओं को सहज कनेक्टिविटी प्रदान करने में सक्षम बनाते हैं।
एलवीएम3 एम2/वनवेब इंडिया-1 समूह के प्रमुख लाभों में से एक इसकी उन क्षेत्रों में कनेक्टिविटी प्रदान करने की क्षमता है जहां पारंपरिक ब्रॉडबैंड बुनियादी ढांचा उपलब्ध नहीं है या स्थापित करने के लिए निषेधात्मक रूप से महंगा है।
यह भारत में विशेष रूप से प्रासंगिक है, जहां आबादी के बड़े हिस्से की अभी भी विश्वसनीय इंटरनेट कनेक्टिविटी तक पहुंच नहीं है।
इन कम सेवा वाले क्षेत्रों में हाई-स्पीड इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रदान करके, समूह में लाखों लोगों के जीवन को बदलने की क्षमता है, जिससे ऑनलाइन शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा और अन्य आवश्यक सेवाओं तक पहुंच को सक्षम किया जा सकता है।
LVM3 M2/OneWeb India-1 तारामंडल का भी भारत की अर्थव्यवस्था पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ने की उम्मीद है, जो डिजिटल अर्थव्यवस्था में अधिक भागीदारी को सक्षम बनाता है और ई-कॉमर्स, ऑनलाइन शिक्षा और अन्य उद्योगों के विकास को सुगम बनाता है। समूह में विशेष रूप से प्रौद्योगिकी क्षेत्र में रोजगार के नए अवसर पैदा करने और देश में नवाचार और उद्यमिता को बढ़ावा देने की क्षमता है।
अंत में, LVM3 M2/OneWeb India-1 उपग्रह समूह का प्रक्षेपण अधिक कनेक्टिविटी और डिजिटल सशक्तिकरण की दिशा में भारत की यात्रा में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है।
समूह में भारत में लाखों लोगों के जीवन को बदलने की क्षमता है, जो दूरस्थ और कम सेवा वाले क्षेत्रों में उच्च गति की इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रदान करता है और डिजिटल अर्थव्यवस्था में अधिक भागीदारी को सक्षम बनाता है।
जैसा कि आने वाले वर्षों में तारामंडल चालू हो जाता है, इसका भारत के सामाजिक-आर्थिक विकास पर गहरा प्रभाव पड़ने की संभावना है, जिससे देश वैश्विक उपग्रह उद्योग में एक नेता के रूप में स्थापित हो जाएगा।

सामान्य प्रश्न
प्रश्न: LVM3 M2/वनवेब इंडिया-1 क्या है?
A: LVM3 M2/OneWeb India-1 भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) और OneWeb के बीच 648 उपग्रहों वाले लो अर्थ ऑर्बिट (LEO) उपग्रह समूह को लॉन्च करने के लिए एक संयुक्त उद्यम है।
समूह को पूरे भारत और दुनिया के अन्य हिस्सों में हाई-स्पीड इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।
प्रश्न: अब तक कितने उपग्रह छोड़े जा चुके हैं?
A: 36 उपग्रहों का पहला बैच फरवरी 2019 में लॉन्च किया गया था। शेष उपग्रहों को आने वाले वर्षों में लॉन्च किए जाने की उम्मीद है, जिसमें पूरा तारामंडल 2022 तक चालू हो जाएगा।
प्रश्न: LVM3 M2/वनवेब इंडिया-1 तारामंडल का उद्देश्य क्या है?
ए: समूह को भारत भर के उपयोगकर्ताओं को उच्च गति की इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिसमें दूरस्थ और ग्रामीण क्षेत्र शामिल हैं जो वर्तमान में पारंपरिक ब्रॉडबैंड बुनियादी ढांचे से कम हैं।
प्रश्न: तारामंडल किस आवृत्ति बैंड में संचालित होता है?
ए: नक्षत्र का-बैंड में संचालित होता है, एक आवृत्ति बैंड जो उच्च गति डेटा संचरण के लिए उपयुक्त है।
प्रश्न: LVM3 M2/OneWeb India-1 तारामंडल किस तकनीक का उपयोग करता है?
ए: उपग्रह उन्नत एंटेना और अन्य तकनीकों से लैस हैं जो उन्हें जमीन पर उपयोगकर्ताओं को सहज कनेक्टिविटी प्रदान करने में सक्षम बनाते हैं।
प्रश्न: एलवीएम3 एम2/वनवेब इंडिया-1 समूह का क्या प्रभाव पड़ने की उम्मीद है?
उ: इस तारामंडल का भारत की अर्थव्यवस्था पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ने की उम्मीद है, जिससे डिजिटल अर्थव्यवस्था में अधिक भागीदारी को सक्षम किया जा सके और ई-कॉमर्स, ऑनलाइन शिक्षा और अन्य उद्योगों के विकास को सुगम बनाया जा सके।
 इसमें विशेष रूप से प्रौद्योगिकी क्षेत्र में रोजगार के नए अवसर पैदा करने और देश में नवाचार और उद्यमिता को बढ़ावा देने की भी क्षमता है।
प्रश्न: क्या एलवीएम3 एम2/वनवेब इंडिया-1 तारामंडल का भारत के सामाजिक-आर्थिक विकास पर प्रभाव पड़ेगा?
उ: हां, नक्षत्र का भारत के सामाजिक-आर्थिक विकास पर गहरा प्रभाव पड़ने की संभावना है, जिससे देश वैश्विक उपग्रह उद्योग में एक नेता के रूप में स्थापित हो जाएगा।
यह भारत में लाखों लोगों के जीवन को बदलने की क्षमता रखता है, दूरस्थ और कम सेवा वाले क्षेत्रों में उच्च गति की इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रदान करता है और डिजिटल अर्थव्यवस्था में अधिक भागीदारी को सक्षम बनाता है।